Monday, October 16, 2017

प्रेम-विवाह

आज
पूरी हुई हमारी
बरसों पुरानी
प्रेम कहानी
(१)
आज
तुम्हारे किसिम किसिम के
प्लाजो दुपट्टे कुर्ती फ्राक
अंट गये मेरी हैंगर अलमारियों पर
खो से गये  हैं मेरे दो चार
इधर उधर टंगे रहने वाले बेचारे कपड़े !
(२)
आज
तुम्हारे टूटे हुए बाल
बिखरे पड़े हैं यहां वहांइस फ्लैट में
नहीं कोई ऐसी जगह  जहां वे हैं नहीं
बहुत तेजी से झड़ रहे
केशकाला भी होता दिखे है बेअसर !
(३)
अब
पुराने बैचलर किचन में
जाने पर लगता है जाने कहां आ गए हैं
बदल गई शकल सब डब्बी डिब्बों की
उनकी संख्या में भी हुआ है भारी इजाफा
किसमें गरम मसाला किसमें  पीसी धनिया
मजाल कि अब मैं यह बोध पाऊं
रहस्य है चहुं दिस घनेरा !
(०)
यही तो प्रेम की परिणति सुखद है प्रिये
जब बह चली है झाग सी
वो पुरानी  झूठी नफासत
बाथरूम में मेरे  शर्ट धुलती
तुम कहां कम  किसी​ अप्सरा से

बच बचा कर जिस खूंखार मां से 
मिला करते थे हम  नेस्कफे में
मेरे सामने ही उसी मां से
गूथते गूथते आटा
तुम करती हो फोन पर
घंटा घंटा भर गल-चऊर !
यही तुम्हारे शब्द तो
हरसिंगार है 
झर रहे हैं 
अशोक की कलिंग विजय पर 
देवताओं के आशीर्वाद रूप ! 

Friday, October 13, 2017

अलल बलल

मन:
ज्यादा कविता लिखने से
दिमाग कमजोर हो जाता है,
कामन सेन्स चुक जाता है
सच में !
अलल बलल कुछ भी छेरते रहना सृजन नहीं है।
कहा है किसी बड़े आदमी ने
"लेखन खून थूकने के समान है"

अ-मन:
तो आप अपने आप को काफ्का समझते हैं ?
आप लेखन का मानक तय करेगें ?
मूढ़ मति पापी मनुष्य ! 
वो जमाना गया ! 
रोज फेसबुक पर दो कविता ठेलो 
रात मूर्गे की गरम टांग के साथ 
ब्लेण्डर के दो पाग बढ़ाओ
रात में जम के सेक्स 
फिर सुबह 
गरीबों की चिन्ता 
देस समाज धरम करम की चिन्ता 
यही सृजन का सार है 
बाकी सब निराधार हा !

तथास्तु ! 



Thursday, October 12, 2017

पिशाचिनी

संसार
भाषा है।

भाषा
माया है।

भाषा ही
भ्रम देती है
बंधती है उसमें
जो है ही  नहीं

स्वयं के छद्म विवरण
को विस्तार देती है
संवाद का आभास रचती है

पिशाचिनी !

Sunday, October 8, 2017

फुग्गे जैसी

जब हम किसी को देखते है
आंखों​ से
तो हम देखते हैं उसके
हाथ पैर
नाक आंख
घुटने गरदन

और इस बीच
हम
पूरी तरह
भूल जाते हैं कि
उसमें एक आत्मा
भी रहती है

फुग्गे जैसी

Friday, October 6, 2017

इतिहास एक क्रम है


इतिहास एक क्रम है
एक गति है
किसी समूह की काल सापेक्ष यात्रा का
जबरदस्ती लिखा गया
अभिलेख ! 

इस निर्वैयक्तिक विप्लवी प्रवाह में
हमें चुनना होगा
अपना प्रस्थान बिंदु ,
चुनना होगा
अपना राज्य
अपनी सेनाएं
अपने पुरोहित
अपने शत्रु .

हर व्यक्ति के लिए ऐतिहासिकी अलग है।
जन्म पूर्व गर्भ में
बनते हुए भ्रूण की कई परतों में
एक अदृश्य परत है ऐतिहासिकी !
पुरानी यात्राओं के संस्मरण !

हमें चुननी होगी
अपनी यात्राएं

Thursday, October 5, 2017

लोकतंत्र का मुलजिम

Click Image Source



लोकतंत्र का
असली मुलजिम पकड़ा गया
खेत में हल जोतते
ठेला पर लहसुन पियाज बेचते
रिक्सा चलाते
सीमेंट बालू जोड़ते
मुलजिम जकड़ा गया

इसी ने दुबारा दिया भोट
छब्बे बिधायक को दू पाकिट ठर्रा के बदले
दुबारा जीतकर बिधायक ने
ऊठवा लिया तिरभुवन पतरकार को
और घोर के पी  गया
झुल्लन की गबरू जवान बिटिया को !
एफाईआर भी नहीं लिखा गया थाने में,
छब्बे बिधायक भी क्या करता
मुलजिम ने​ दिया था भोट
बनाया था माननीय

लेकिन आज पकड़ा गया !
सड़क के किनारे
बड़ी गोल वाली पाइप में गांजा पीते हुए 
जड़ें लोकतंत्र की 
और हुयी गहरी ! 

Saturday, September 30, 2017

निरपेक्ष…..

कभी कभी
मन पर छायी उदासी
इतनी गाढ़ी और पूरी होती है कि
आसपास की दुनिया
उसके दुख, उसके लोग
उन लोगों से जुड़े दुःख,
उनसे ऊपजे सुख
उनकी स्मृतियों को 
सजोनें वाले समय का पतला धागा
उस ठहरी सी तृप्त उदासी में
फंस कर खो से जाते हैं !
किसी कम रोशनी की जगह
पर अकेला खड़ा मैं
सिर्फ और सिर्फ मैं ही
बचा रह जाता हूं
बिना आवाज के
निरपेक्ष…..                                                                                             
Click Image Source 

****************************************************************************
पुरानी कविताएं आगे ....

Thursday, September 28, 2017

High speed Mass rapid transit systems vs Poverty in India



                                                                              








From forbes.com


      

 
Many are of the view that high speed rapid mass transit systems in India are needless infrastructural project, merely a tool for government to clandestine its achievements in its report cards designed to woe the voters.  Such projects cost huge sum of money which should necessarily be diverted towards welfare projects for millions of starving and malnourished Indians. Apparently this claim seems legitimate but in reality it is futile.  But the moment one utters this, he/she is vulnerable to be fixed as Bhakt by  'Non-Bhakt Bhakts'. So a very value neutral and behaviorist and not a positivist explanation is expected to deal with the issue and set it into right context.      


High end rapid transit systems are very much required in India to showcase the world its infrastructural strength. India aspires to be a world class manufacturing hub for all kinds of goods. Government is working strenuously in this direction and drives like 'Make in India' are well in place. ‘Ease of doing business’ has turned into a slogan in almost all policy documents by the government. Among all this India is doing well in the arena of foreign capital inflows. Country is turning into a bright spot for big buddies in business as is clearly visible in the picture below:

(From http://indpaedia.com/ind/index.php/Foreign_Direct_Investment_(FDI):_India

As of now, India ranks tenth in world in foreign capital inflow. However scenario was different few years back. With all probability, even if not in reality,  the spectacular demonstration of economic reforms with phenomenon like Jan Dhan, GST and Demonetisation at run by incumbent government will payback and  it would improve in future. Given the situation, India needs to re-position itself in terms of infrastructural set up in order to facilitate the industrial atmosphere and its growth. For this, as we all know, transport plays a pivotal role. And we also know transport has been an aspect of our society where we are lagging far behind as compared to other nations of the world. Leave apart the miserable speed efficiency in road and waterways transport, Average speed of railways in developed countries in 250 to 300 km per hour. (See: https://en.wikipedia.org/wiki/List_of_high-speed_railway_lines) whereas we are happy at 60 to 80 km per hour. (This speed reinforces our belief: der aaye durustaaye. Even if late, remain safe.)

Therefore, a high speed mass rapid world class transit system is the need of hour for our country.  We can’t afford postponing it further as we have already done it much. Whereas Many "Chanakyas" (local experts in economic affairs found in abundance in Indian geographical territory/landscpe) argue this to be a  wasteful expenditure of  public exchequer. Country like India should first feed her millions of hungry population instead of draining wealth into this ''anti-poor'' traffic projects. However,  Local Chanakyas generally fail to hit the point that  Loan being sanctioned by Japanese government to fund this project cannot be diverted to any other head. We cannot get this money for any other type of expenditure, neither for defense nor for cross-subsidizing hiked MNREGS wages. Here question of funding poverty elimination welfare programs using this fund itself gets eliminated.

It is evident that Japanese government seems quite generous while funding this project. Rs 90000 Cr for 50 years at 0.10% interest rate with a moratorium of 15 years to pay is a very week business model to retrieve back the profit from this gigantic investment. Would it be sensible to believe that Japs are foolishly allured by ''fifty six inches of chest'' to invest in for welfare of India? I don't  think so. There can be something more than that meets the eyes.  Analytically, this project is not primarily related with money or rail project. B
oth the sides have larger geopolitical and strategic interests than visible to the local pundits.
With a more assertive China and a new Prime Minister in India in 2014, Indo-Japan relations has touched new heights. In a way, from India Japan, there is an effort to show themselves to be an uncluttered and democratic barricade against the malafide conduct of the Rawalpindi-Beijing-Pyongyang axisAlthough bilateral relations between the two were never dormant in past decades.  In August 2000, the Japanese Prime Minister visited India and  "Japan-India Global Partnership in the 21st Century’’ was envisioned. However, recent fillip by China in south china sea and North Korean navigation tool, namely a ballistic missile, which flew over Hakkaido, a Japanese island and fortunately perished in Pacific ocean has raised Japanese security concerns. As a result, Japan is eager to "align" with a friend like India who is  in almost same shoe, with a different size. 

Indian Prime Minister Vajpayee visited Japan in December, 2001, where both Prime Ministers issued "Japan-India Joint Declaration." In April, 2005, Japanese Prime Minister Koizumi visited India and signed Joint Statement "Japan-India Partnership in the New Asian Era: Strategic Orientation of Japan-India Global Partnership." Fast forward in 2016, Indian Prime Minister Narendra Modi visited to Japan. In this trip, Japan signed a treaty on Nuclear Energy. This is first time Japan signed a nuclear treaty with a Non NPT member country. After this deal Japan can supply Nuclear reactors, Fuel and required technology. This was a real breakthrough in Indo Japan bilateral relations.  

We heard much about the One Road One Belt initiative initially conceived by  ambitious China and now in pipeline with active collaboration of Pakistan  whereas “Asia Africa Growth corridor” remained away from limelight. This is another big leaf in growing Indo- Japan relationship. This is a bilateral project by both the countries where Japan is contributing $30 billion whereas India’s share is $10bn.  Project envisions a sea link corridor between Asia and Africa to boost investment, better infrastructure, digital connectivity from India and Japan in Africa. It will focus on improving Pharmaceutical industry, skill development, agro processing along with other sectors in Africa. Under this project, a sea link would be created linking ports in Jamnagar( Gujraat) with Dijouti in the Gulf of Eden. It would also connect ports of Mombasa and Zanzibar with ports near Madurai in Tamilnadu. Sittwe port in Myanmar would be connected to Kolkata. Strategically, this revival of ancient sea routes will give an upper hand in Indo-pacific regions to both the parties. 
As far as investment in transport sector in India by Japan is concerned, we must see this investment in the backdrop of competition being offered by Chinese companies. They recently snatched the deal from Japanese agencies in Laos, Indonesia and Thailand. For India also,earlier ,proposal was thrown from Chinese side. But native wisdom allowed Japan to take a lead. 

Thus such investments are loaded with multifarious aspects of international diplomacy and geo strategic needs of the parties. Debate that India should first eradicate poverty and then play for high end transit systems fueled by foreign funds is ill informed and myopic. There is no doubt that a developing nation likes India who ranks 64th in list of 79 poor countries of the world  (World Economic Forum’s Inclusive Growth and Development report.has a plateau of difficulties to traverse through.  But this does no where proscribe pursuing high goals in basic infrastructure as transport. This bullet train project is win win adventure for both, India and Japan. In a world chiseling itself to accommodate new power equations surfacing with Asian upsurge, India and Japan are in the process to accord true meaning to the phrase they tagged themselves recently: “Special strategic and Global partners.”
                     ####################

By Abhishek Kushwaha 

Sunday, September 24, 2017

प्रेत

कोष्ठक में: यह कविता चार्ल्स बडलेयर की कविता "The Ghost" के पुनर्सृजन का प्रयास है. बडलेयर फ्रांस में उन्नीसवीं सदी के बड़े कवि माने जाते हैं. उनकी कविताओं में आधुनिकता के परिपेक्ष्य में प्रेम, सौन्दर्य जैसे शाश्वत मानवीय मूल्यों की बड़ी गहरी व मौलिक पड़ताल मिलती है. उनकी कविताएं इसी मौलिक अनुबोध की उपज हैं. संवेदनाओं के नये फलक खोजते हुये आजकल मैं ऐसे दबंग कवियों को पढ़ने की जुगत करता रहता हूं. मूल कविता यहां उपलब्ध है: The Ghost

         *********************************************************************************

प्रेत 

खूंखार आंखॊं वाले देवदूत की तरह

मैं आंऊगां पुनः तुम्हारी कोठरी में
सरकर सन्नाटों में चुपचाप तुम्हारी तरफ
रात के धुंधलके में, ओ मेरे प्रिय !

और फिर मेरे तुम दूगां  तुम्हें 
जमें हुये ठण्डे चांद जैसे चुम्बन
सहलाऊंगा तुम्हें उस सांप जैसे
जो किसी कब्र पर फिसलता है आसपास !

जब सुबह की जर्द पीली उजास में
मेरे स्थान पर नहीं पाओगे तुम मुझे
अगली रात तक
बनी रहेगी डर-भरी-ठण्ड!



कुछ अन्य चाहेंगे तुम्हें जीतना
कोमलता से प्रेम से किन्तु!
जीत लूगां तुम तुम्हारे यौवन को

मैं भय से त्रास से  ! 

      *********************************************************************************



Charles Pierre Baudelaire : April 9, 1821 – August 31, 1867) was a French poet who also produced notable work as an essayist, art critic, and pioneering translator of Edgar Allan Poe.
His most famous work, Les Fleurs du mal (The Flowers of Evil), expresses the changing nature of beauty in modern, industrializing Paris during the 19th century. Baudelaire's highly original style of prose-poetry influenced a whole generation of poets including Paul Verlaine, Arthur Rimbaud and Stéphane Mallarmé among many others. He is credited with coining the term "modernity" (modernité) to designate the fleeting, ephemeral experience of life in an urban metropolis, and the responsibility art has to capture that experience.


From Wikkipedia 



Saturday, September 23, 2017

कोयले में घुस गयी कविता: पुराने दिनों की चुल्ल ! वर्ष 2010




बहुत पहले
कुछ हरे पेडों को खा गयीं थी चट्टानें !
पेड़ॊं की फिर से हरा होनें ,उगनें की
जिजीविषा को, इच्छा को पीस पीस कर
अपने भीतर समोती रही चट्टानें!
किन्तु अन्ततः
उनमें न मिटने की स्पृहा के ताप से
जल कर काली हो गयी थी चट्टानें !
एन्र्थासाइट बिटुमिनस लिग्नाइट !






Wednesday, September 20, 2017

दूसरा !

हमें 
एक क्षण के लिए भी
नहीं भूलना चाहिये 
कि
हम एक दूसरे से बिलकुल अलग हैं.
बिलकुल अलग
थॊड़ी देर के लिए भी
यह भूलना 
खतरनाक हो सकता है.

बहुत. 

Monday, September 4, 2017

गन्तव्य

बहुत सी यात्राएं
हमें
कहीं नहीं ले जाती।

गतियां


ऊंचा उठने के लिए
ऊर्ध्वाधर
चलना होता है।



बैकलाग

कुछ लोग
प्यार में भी
बैकलाग रखते हैं!
समय समय पर
सुविधानुसार
क्लीयर
करते रहते हैं
धीरे धीरे !

Tuesday, August 22, 2017

भ्रम

पता ही नहीं है
आदमी को
कि
उसे चाहिए क्या ?

असुर

कुछ लोग
अपने इसी जीवन के
एक हिस्से में
बन जाते हैं
मानव से असुर,
वैसे ही जैसे
शास्त्रों में वर्णित हैं
असुर
बड़े बड़े दांतो वाले
झबरैले बालों वाले।

वे बन जाते हैं असुर !
क्योंकि
उन्हें ठगा है देवताओं ने !
उनसे झूठ बोला है
देवताओं ने !

वे स्वर्ग पर
करतें है हमला
अप्सराओं के लिए नहीं
उसे तहस नहस करने के लिए !

Monday, August 21, 2017

झूठी आशा

कविता से
नहीं होगा कोई समाज सुधार
कोई क्रान्ति भी नहीं आयेगी
न ही भरेगा किसी भूखे का पेट !

कविता
बस
सब कुछ ठीक हो जाने की
झूठी आशा का
एक सिरा है !

जी लोगे बिना इसके ?

हे डीयर प्रभू !

From web











हे डीयर प्रभू !
कवि न बनने देना ऐसा
कि अपनी रचनाएं
पूरी होने से पहले ही, 
लपालप
मित्रों-मित्राणियों के
कपार पर 
खचाखच 
पटक पटक पूछूं …..
कैसी है कैसी है कैसी है !

हे डीयर प्रभू !
थोड़ी किरपा दे
लेना बचाय ! 

Sunday, August 20, 2017

घने जगंलों में



घने जगंलों में
मैं बहुत दूर निकल आया था ।
बहुत दूर ।
जगंलों के भीतर बहुत भीतर
बेतरतीब बिखरे खोये हुये उन रास्तों के पार
जिनपर कभी कोई पथिक गया ही नहीं
वहां आदमी के पास
अपने सीधे साधे जंगलीपन के गुल्म में लिपटी
नवजात धवल आदमीयता के अलावा कुछ और था ही नहीं,
वहां
घने अंधेरों के पार
मैंने प्यार और उजालॊं की बड़ी बड़ी खानें पायी
पाये निश्चल प्यार के चमकीले कौस्तुभ, 
स्पष्ट भावनाओं के हरे मरकत !
थे वहां नश्वरता की नीली रोशनी में
दमकते कुछ ऐसे फूल
जिनसें एक तरह की
न कही जा सकने वाली न समझी जा सकने वाली शाश्वतता लिए
भासित उज्जवल रक्तिम अभ्र झरता था !

बहुत सी पीले पन्नों वाली किताबों की कब्र से बाहर सरक आये
अनेक मिथकीय पात्रों भरी
सपनॊं , गल्पॊं व किंवदन्तियों की अनगिन झाड़ियां
जिनपर कवितायें बिखरी हुयी थी कहीं खिलकर सूख गये लाल टहकार फूल की तरह
तो कहीं किसी बहुत पुरानी साधारण सी कहानी में रोती हुयी लड़की के अन्तिम बूंद आसू की तरह !
इन सब को पार कर मैं
इन घने जंगलों में बहुत दूर निकल आया था !

यहां बादलॊं में प्रेम सघन घनत्व में
पानी की तरह पुता हुआ था ,
जो
सुन्न रात में 
चांदी के बुरादे जड़ी शुभ्र वस्त्र आवृत
प्रागऎतिहासिक मांसल प्रेम स्मृतियों सी
एक के पीछॆ एक , स्थगित सम्बध्दता लिये खड़ी
समुद्री नील पहाड़ियों व सम्मुख उसके
पुरिया धनश्री के गिरान वाले स्वर जैसी
एक गहरे गर्त-सी बजती
घाटी की कगार पर खड़े हो निहारते हुये
कभी आती सांस पर कभी जाती सांस पर
वैसे ही जम जाता है जैसे
प्रथम पुरुष के अधरों पर जम गये थे
प्रथम स्त्री के अधर प्रथम चुम्बन समय !

इस गहरी घाटियों में
पहाड़ॊं  की विमाओं को समझते हुये
मैं भटक गया था
एक ताजी आदमीयता की क्यारियों में उगने वाले 
बिलकुल अलग तरह से कोमल
बिलकुल अलग तरह से प्रगाढ़
सहज बोध भरे शान्त कर देने वाले
प्रांजल स्नेह सम्पुट धरे
आकाश के बहुत पास विहस आये
इन अद्भुत प्रतानों के जंगलॊं में
मैं बहुत दूर निकल आया था !

जापान और हम

कला संकाय के किले में शाम को कक्षाएं चलती थी जापनीज़ की।   चार बजे शुरू हो कर छह बजे तक। आकियो सर जो कि टोक्यो निवासी थे, हमें कांजी कतकना रटवाते थे।
पहले दिन जब कक्षाएं शुरु हुई तो परिचय से पहले ही आकियो सर ने हम सबसे एक काम कराया  । सबने अपना वो हाथ आगे किया जिस पर घड़ी होती है, फिर हम सबने अपनी घड़ियों में समय को एक किया। ठीक चार बजे। एक सप्ताह तक तो सब भारतीय तरीके से चलता रहा, लेकिन अगले सोमवार जब मैं चार बजके एक मिनट पर क्लास पहुँचा तो मुझे ससम्मान कक्षा से बाहर कर दिया गया। मैं तो भक्क रह गया! तब समझ आया कि चार बजे मतलब ठीक चार बजे।
लेकिन हमारी सालों की आदत तो दो दिन में छुटाए न छूटे, तो शान्तिपूर्वक हम पौने चार बजे हम रुम न ३२ के बाहर मौजूद रहते थे।
कक्षा में लगभग तीस विद्यार्थी थे। ज्यादातर  ध्यान से पढ़ते थे लेकिन कुछ महाशय थे जो पीछे बैठ चू चपड़ जारी रखते थे। शुरूआत के लगभग पन्द्रह दिनों तक आकियो सर ने कुछ नहीं कहा, सिर्फ़ मुस्कुरा कर उन्हें चुप रहने की सलाह दी। लेकिन वो दिन आ ही गया जब उनके सब्र का बाध टूट गया। लगभग पाँच बज रहे थे। पूरे संकाय में सन्नाटा था। सिर्फ हमारी कक्षाएं चल रही थी। अचानक सर पूरी ताकत से चिल्लाए ! उनकी गुर्राहट इतनी तेज़ थी कि आवाज़ अहाते में गूजती रही।उन दो लड़को को खड़ा कर अपनी शुद्ध हिन्दी में सर फिर चिल्लाए ," तुम्हें पता है तुमने क्या किया है?" लड़के चुप। " तुमने दो मिनट बात की क्लास में, और तीस लोगों का दो मिनट बरबाद कर दिया। इस तरह तुमने अपने देश को साठ मिनट पीछे कर दिया....! "
हम सब शान्त। बात देश पर आ गयी तो सब गम्भीर हो  गए। बात ऐसी थी  कि सबको चुभ गयी। और इस तरह का यह अन्तिम वाकया रहा।
अगले साल आकियो सर ने बीएचयू में पढ़ाना छोड़ दिया।वो राजस्थान में फिल्माई जा रही किसी जापनीज़ डाक्यूमेन्ट्री फिल्म निर्माण में सहयोग देने चले गए। अब उनकी पत्नी कक्षाएं लेती है।साथ ही  रवीन्द्रपुरी में शीबा रेस्त्रां भी चलाते हैं पति पत्नी।
____________________
जापान के स्मार्ट शहरों से प्रेरणा लेने से पहले हमें जापान के लोगों से बहुत कुछ सीखना होगा। अगर हम उनसे थोड़ा सा "सिविक सेन्स" सीख लें, तो हमारे शहर अपने आप ही स्मार्ट हो जाएगे।

आज की सांझ

पिघले सोने की भट्टी
डूब खो गयी
स्याह नीलाभ घाटी के
गर्भ में,
आज की सांझ।

Thursday, August 17, 2017

कुछ शब्द


ढूंढता हूं
कुछ शब्द
छुपा सकें जो
गहरे
मेरे सन्नाटों को !
रच सकें जो
ऐसी कोख
जिसमें दफ्न हो
सकूं मैं !
कह सकें
वे वह कुछ
जो कहा नहीं
जाना है


Sunday, July 30, 2017

आजकल


हर तरफ धूल है
धुँआ है
गुबार है।

गर्द इतिहास की
चुभ रही है
पलकों में।

वर्तमान का पानी
धुले
स्पष्ट कर दे
सब गर्द
हालाकिं
वह खुद ही
धुंधला है
गंदला है।

ज्ञान गुप्त रोग सा
बढ़े है
दिनों दिन ,
अपने ही निस्तारण
में प्रयासरत,
अपंग, निष्प्रभ !

आजकल ,

Saturday, July 1, 2017

फोन

चलो . . . ! ! !
थोड़ी देर . . .
साथ रहें !
एक दूसरे को फोन करें
 और...
 हैलो भी ना बोलें ।

बहुत देर तक
चुप रहें . . .
और बिना  कुछ कहे
हल्की सी सांस छोड़
फोन रख दें ।

इतनी दूर होकर भी
चलो . . .! ! !
थोड़ी देर
साथ रहें !