Thursday, August 17, 2017

कुछ शब्द


ढूंढता हूं
कुछ शब्द
छुपा सकें जो
गहरे
मेरे सन्नाटों को !
रच सकें जो
ऐसी कोख
जिसमें दफ्न हो
सकूं मैं !
कह सकें
वे वह कुछ
जो कहा नहीं
जाना है


Sunday, July 30, 2017

आजकल


हर तरफ धूल है
धुँआ है
गुबार है।

गर्द इतिहास की
चुभ रही है
पलकों में।

वर्तमान का पानी
धुले
स्पष्ट कर दे
सब गर्द
हालाकिं
वह खुद ही
धुंधला है
गंदला है।

ज्ञान गुप्त रोग सा
बढ़े है
दिनों दिन ,
अपने ही निस्तारण
में प्रयासरत,
अपंग, निष्प्रभ !

आजकल ,