Thursday, January 28, 2010

प्यार: एक डायाक्रोनिक स्टडी-1


प्यार
तरह तरह के होते हैं ।


किसी बीते हुये प्यार को
याद करना , पुनः प्यार से भर उठना
एक अलग प्यार है ।

किसी चल रहे प्यार को सोच कर
धीरे से मुस्कुराना , फिर तुरन्त
काम में व्यस्त हो जाना
एक अलग प्यार है ।

किसी दूसरे के प्यार को
देखकर ,दो बूंद
खुद के बारे में सोचना
एक अलग प्यार है ।

वे प्यार जो हुये ही नहीं
और वे प्यार
जो होते होते रह गये,
सब को सोच कर
मन में भर जाने वाला प्यार
एक अलग प्यार है ।

इसी तरह
एक नये प्यार की
सुकुमार व सुन्दर कल्पना करना ,
उस नये सौन्दर्य में खो जाना
एक अलग प्यार है ।
अब यहां
सब प्यार अलग अलग प्यार है ।
लेकिन
अच्छी बात यह है कि
सब
प्यार ही है ।

Sunday, January 10, 2010

बात


गर्म टहकार,
कुनकुनी पीली ,
चमकीली उत्फुल्ल,
धूप
सिर्फ धूप नहीं है ।

दरसल वह एक बात है ।
बात –
जो सूरज धरती से किया करता है ।
रोज रोज , हर रोज ।

उसके कई अर्थ हैं ।
अनेक भाव ,
गन्ध ,
भंगिमाएं ,
कहानियां हैं ।
धरती की छाती पर टंकी
छोटी से छोटी घास से लेकर
वृहद देवदारू व वटवृक्षों तक की
व्यथा कथाएं हैं ,
आत्माभिव्यक्तियां हैं,
उल्लास के गीत हैं ,
शोक के मौन आख्यान हैं,
सूरज जिन्हें
हर रोज चुपचाप
धरती से कहता सुनता है ।

दरसल
धूप की यह ऊष्मा
सूरज का दुख है !
प्राजंल मोदक हरितिमा से आवृत्त
ये वृक्ष
वस्तुतः
सूरज के स्वप्न हैं ।
सूरज
अपने गुह्यतम सुनसान तापगर्भॊं में
इन हरे भरे वृक्षों के स्वप्न -चित्र
संजो कर रखता है ।

Sunday, January 3, 2010

सब कुछ शेयर कर लेता हूँ !

कलिंग युद्ध क्षेत्र पर छिड़ा घमासान अभी धीरे धीरे शान्त हो रहा है । वहां बहुत कुछ लिया गया और बहुत कुछ दिया गया । इन सब के बीच बहुत कुछ ऐसा भी रहा जो देते देते नहीं दिया गया ………..अतएव लेते लेते नहीं लिया गया । खैर , चल रही प्रक्रियाओं को देखते देखते घुन जैसा एक प्रश्न मन में किर्र किर्र करने लगा कि क्या सब कुछ साझा किया जाना जरूरी है ? अगर किसी ने कुछ कहा (यहां सही या गलत के किसी वैल्यू जजमेन्ट की कोई बात नहीं है।) तो क्या यह जरूरी है कि उससे उपजे अर्थ एवं अर्थ से वाष्पीकृत हो मनःतल पर जमी भावनाएं सबसे बांटी ही जाय ? या दूसरे शब्दों में , प्रासंगिकता से अलग थोड़े व्यापक परिपेक्ष्य में , भीतर के व्यक्ति को जो अनुभूतियां वाह्य समाज से जोड़ती हैं , उनका प्रकार कैसा हो ?

कल दोपहर जब टुन्ना भईया ने फोन किया कि तैयार रहना शाम को अरविन्द जी के यहां चलना है तो लगा कि अब घुन के लिये “मैलाथ्यान ” का इन्तजाम हो जायेगा । ससुराल में पहली बार सबके लिये रसोईं तैयार करती, डरती , सकुचाती दुल्हन सी सांझ की शुरुआत में ही मैं लंका से नाटी इमली के लिये निकल गया । कैम्पस में , जहां तापमान हमेशा सामान्य से दो तीन डिग्री कम ही रहता है , काली साफ सड़कॊं के किनारे लाइन से खड़े ,कोहरे की सफेद चादर ओढ़े , पीले रोड लैम्पों का अलाव तापते , हरे पेड़ शेली का वेस्ट विंड गा रहे थे ………”इफ़ विन्टर कम्स , कैन स्प्रिंग बी फ़ार बिहाइण्ड ? ……।”

नाटी इमली चौराहे पर टुन्ना भईया एवं हेमन्त भईया पहले से ही थे । हम सभी अरविन्द जी आवास पर पहुंचे । वहां पहुच कर एक चीज का मैं बेसब्री से इन्तजार कर रहा था ---अगर वह थोड़ी और देर तक न आती तो ---मैं मांग ही बैठता ---लेकिन आ ही गयी – गरमागरम काफी ।
बातचीत शुरु हुयी । ब्लाग्स, ब्लागर्स एवं ब्लागराएं ।

ब्लाग जगत में जिन चीजों को लेकर बहुत गंम्भीर एवं पर्याप्त हो हल्ला मचा हुआ है उन पर अरविन्द जी को बोलते हुये सुनकर लगा कि वे इन सब चीजों में पूरी तरह संलग्न होकर भी सारी चीजों से एक स्तर पर एकदम पृथक हैं । किसी बात के बीच या अन्त में उनके जोरदार एवं भरपूर ठहाके मेरी इस ’सोचान’ को न जाने क्यॊं पुष्ट करते रहे ।

इन सब के दौरान हम सभी ओझा जी का इन्तजार भी कर रहे थे ।पहुंचने वाले तो वे चार ही बजे थे लेकिन बलिया से उन्होंने पैसेन्जर ट्रेन पकड़ ली और अपने आप को ऐसी परिस्थितियों में डाल दिया जहां उनकी धैर्य एवं सहनशीलता इत्यादि संचित उदात्त मनोवृत्तियों की पूरी परीक्षा हो सकती थी । …….(हुयी भी।)
बातॊं बातों में कुछ देर के लिये मुझसे मेरा प्रश्न कुछ विस्मृत सा हुआ था कि किसी बात पर अरविन्द जी ने कहा कि मैं किसी भी चीज को वैयक्तिक तौर पर नहीं लेता । जो चीज बाहर से मिली है उसे जी कर फिर पूरा का पूरा लौटा देना ही अच्छा समझता हूं । सब कुछ “शेयर” कर लेता हूं । सब सामने रख देता हूं । (फिर एक जोर का ठहाका !)
सुना मैंने । सुनता रहा ।
तभी फॊन आया कि ओझा जी की ट्रेन बनारस के सिटी स्टेशन पर आ गयी है । ड्राइवर(शैलेन्द्र) के साथ मुझे ही उन्हें रिसीव करने जाना है ।
रात के करीब बारह बजने वाले हैं बाहर ठण्ड सोलह साल की हो गयी है । बनारस सो गया है । कुहरा कम है । सर्द ठण्डी हवाओं से जलते कुत्तों के पिल्ले टें टें कर रहे है ।चलती गाड़ी में शैलेन्द्र मेरे जैकेट को कुछ देर तक बहुत ध्यान से देखता रहा । फिर बोला , आपको ठण्ड लग रही होगी , चाहें तो मेरा कम्बल ले सकते हैं । उसने देखा नहीं होगा लेकिन हल्की सी मुस्कराहट अनायास तैर आयी मेरे होठॊं पर । कुछ पन्क्तियां याद आ रही थी , उनके अर्थ भी स्पष्ट हो रहे थे धीरे धीरे----“(जीवन सर्वदा ही वह अन्तिम कलेवा है जो जीवन दे कर खरीदा गया है और जीवन जलाकर पकाया गया है और) जिसका साझा करना ही होगा क्योंकि वह अकेले गले से उतारा ही नहीं जा सकता—अकेले वह भॊगे भुगता ही नहीं। ”

Friday, January 1, 2010

सन्नाटा


अलग होते मुझ के साथ

बहुत दूर तक टूटा नहीं

तुम्हारी पुकार का स्वर !

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

दूर निकल आये मुझ के साथ

उस स्वर के पीछे बचा

सन्नाटा अब भी है !

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

सुनायी देता है लेकिन

सुनता नहीं हूँ

उस सन्नाटे का खालीपन !