Wednesday, November 22, 2017

जुड़ाव

कुछ कविताएं
दुख में लिखी जाएंगी

उससे इतर
किसी अन्य दुख में
पढ़े जाने के लिए।

जो छूट गए

जो
छूट गए

उन्हें
जाने दो !